जरा हट के

सराहनीय कदम: ‘आपका स्वागत है बेटी पलक गली में’, संझौली में नवजात बच्चियों के नाम..

'आपका स्वागत है बेटी पलक गली में', संझौली में नवजात बच्चियों के नाम..

बिहार के सासाराम जिले में संझौली के बुद्धा खैरा गांव से इस अति सराहनीय कद्दामा कि शुरुवात हुई है। इसअभियान के तहत प्रखंड विकास समिति ने गांव के गलियों और सड़कों का नामाकरण उस गांव में जन्म लेने वाली नवजात बेटियों के नाम से पर रखने का प्रस्ताव पारित किया। जिसके बाद पुर गौण में ऐसा करने यह सिलसिला शुरू हो गया है।

संझौली की उप प्रमुख डॉ. मधु उपाध्याय को सलाम है जो लगातार नारी सशक्तिकरण के लिए काम कर रही है। इनके ही पहल पर यह संभव हो सका है। पंचायत के इस प्रयास की सराहना चहुंओर हो रही हैं।इसके साथ ही, यह बेटियों को सम्मान देने की एक नई परिपाटी कि भी शुरुवात मानी जा रही है।

संझौली के बुद्धा- खैरा गांव की गली जिस सड़क का नाम अब पलक गली है।दरअसल जब यह सड़क का निर्माण हो रहा था उसी दौरान इस गली में एक बेटी ने जन्म लिया था। घरवालों ने उसका नाम पलक रखा, तो पंचायत ने उस गली का ही नाम पलक-गली रख दिया, जिस गली में नवजात पलक का घर है।

पलक के पिता चंदन कहते हैं कि स्थानीय प्रशासन तथा जनप्रतिनिधियों की इस पहल से उन लोगों को काफी खुशी मिली है।वहीं पलक की मां सरिता देवी को विश्वास नहीं हो रहा कि उसकी नवजात बेटी के नाम पर उसके गांव के गलियों का नामकरण हुआ है।

नवजात बच्ची के पिता चंदन प्रसाद तथा माता सरिता देवी को की खुशियां देखते ही बनती हैं। अब उसके घर तक आने वाली सड़क को उनकी नवजात बेटी के नाम से जाना जाएगा।सड़क की शुरुआत में ही पलक के नाम का शिलापट्ट लग गया है। जो भी लोग गली में आते हैं, वो इसे पलक गली कहकर बुलाते हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Copyright © 2020 The Biharnama.

To Top