बिहार विधानसभा चुनाव 2020: नरम हुए चिराग के तेवर, पर क्या ये मजबूरी है या तीसरे मोर्चे के…

चुनाव की तारीखों के एलान होते ही अब बिहार के सत्‍ताधारी राष्‍ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (NDA) में सब कुछ फिर पटरी पर लौटता (All is Well) दिखाई पर रहा है। लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) बीते कुछ समय से विद्रोह का झंडा थामे हुए थे, पर अब नरम पड़ते दिख रहे हैं। इसके साथ ही उनके एनडीए छोड़ने के कयासों पर विराम लगता हुआ भी दिख रहा है।

मिली जानकारी के अनुसार विद्रोह पर उतारू चिराग पासवान के साथ बीजेपी की बातचीत सकारात्‍मक रही है।पर ऐसे में सवाल यह है कि क्‍या चिराग मान गए हैं या एनडीए से बाहर जाना उन्‍हें घाटे का सौदा लगा? सवाल यह भी है कि क्‍या महागठबंधन या किसी तीसरे मोर्चे में जाने की उनकी संभवना पर विराम लग गया है? हालांकि, इस बाबत एलजेपी का कोई आधिकारिक बयान अभी तक नहीं दिया है।

बीजेपी के साथ बातचीत के बाद चिराग नरम दिख रहे हैं। वैसे तो चिराग की नाराजगी के दो मुख्‍य मुद्दे पर हैं। पहला तो एनडीए में सीटों के सम्‍मजनक बंटवारे (Seat Sharing) का है। दूसरा मुद्दा बिहार में बिहार में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सरकार से उनके मतभेद का है।हालांकि, अब लग रहा है कि बीजेपी ने बीच का रास्‍ता (Middle path) निकाल लिया है। एलजेपी को एनडीए में अब विधानसभा की 28 तथा विधान परिषद की दो सीटें देने की बात है।

कम से कम महागठबंधन से जीतनराम मांझी (Jitanram Manjhi) की विदाई के बाद तीसरे मोर्चे के गठन की संभावना को और बल मिल रहा था। वही हाल के दिनों में चिराग के सुर आरजेडी नेता तेजस्‍वी यादव (Tejaswi Yadav) से मिलते नजर आ रहे थे। बिहार की नीतीश सरकार (Nitish Government) की आलोचना में वे तेजस्‍वी की ही लाइन पर चल रहे थे।जेडीयू ने भी चिराग के बयानों के विपक्ष के आरोपों को मजबूती देने का आरोप लगाया था।

चिराग के साथ एक संभावना राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha), जन अधिकार पार्टी (JAP) के अध्‍यक्ष पप्‍पू यादव, विकासशील इंसान पार्टी (VIP) के मुखिया मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) के साथ तीसरे मोर्चे के गठन की भी थी। उपेंद्र कुशवाहा व पप्‍पू यादव को नीतीश कुमार का विरोध भी चिराग पासवान के करीब लाता दिख रहा था। हालांकि, कुशवाहा के अनिर्णय के हालत में रहने तथा मुकेश सहनी के महागठबंधन में ही संभावनाएं तलाशते रहने के कारण इन दलों को मिला कर तीसरे मोर्चे की संभावना फिलहाल आकार लेती नहीं दिख रही है। तीसरे मोर्चे के गठन की कोशिशें फिर भी जारी हैं, लेकिन चिराग फिलहाल कोई रिस्‍क लेने के मूड में नहीं हैं।

बरहाल जो भी हो फ़िलहाल तो चिराग जेडीयू के खिलाफ 143 उम्‍मीदवार उतारने के फैसले पर भी नरम पड़ चुके हैं। हाल ही में उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में आस्‍था भी व्‍यक्‍त की है।

Laxmi Chaurasia

Recent Posts

नीतीश ने फिर साधा निशाना, कहा- कुछ लोग सेवा नहीं, परिवार के उत्थान के ही विशेष…

नीतीश कुमार ने कहा कि कि मैं चुपचाप दिन-रात काम करता हूं। कुछ लोग सिर्फ…

2 weeks ago

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 : मशहूर शायर मुनव्वर राणा की बेटी फौजिया राणा भी मैदान में

देश के मशहूर शायर मुनव्वर राणा की बेटी फौजिया राणा भी अपनी किस्मत आजमाने मैदान…

2 weeks ago

हाईकोर्ट का बड़ा आदेश, चुनाव कार्य के लिए निजी वाहनों की जब्ती पर लगाई रोक, जनता को मिली राहत

बिहार विधानसभा चुनाव कार्य में निजी वाहन की जब्ती में प्रशासन फूंक-फूंककर कदम उठा रहा…

2 weeks ago

कन्हैया कुमार का बड़ा बयान: मेरे भाजपा में शामिल होते ही धुल जाएंगे सारे दाग, खत्म हो जायेगा देशद्रोही होने का आरोप…

जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार को उनकी पार्टी ने स्टार…

2 weeks ago

यूपी के रास्ते बिहार चुनाव में हरियाणा की अवैध शराब कि हो रही है तस्करी, मुख्य सचिव ने दिए निर्देश

केन्द्रीय चुनाव आयोग ने बिहार में हो रहे विधान सभा चुनाव में उत्तर प्रदेश के…

2 weeks ago